Hindi Newsportal

दिल्ली सीएम केजरीवाल ने एक बार फिर ED के सामने पेश होने से किया इंकार, चिट्ठी लिखकर ED के नोटिस को बताया अवैध

File Image
0 887
दिल्ली सीएम केजरीवाल ने एक बार फिर ED के सामने पेश होने से किया इंकार, चिट्ठी लिखकर ED के नोटिस को बताया अवैध

 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजीरवाल को लेकर बड़ी खबर सामने आयी है। दिल्ली के चर्चित शराब घोटाले के मामले में सीएम केजरीवाल को आज ED के प्रवर्तन निदेशालय (ED) के समक्ष पेश होना था लेकिन एक बार फिर सीएम केजरीवाल ने प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष पेश होने से इंकार कर दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस संबंध में ED को पत्र लिखा है। उन्होंने लिखा कि “ED की जांच में सहयोग करने को तैयार हूं लेकिन एजेंसी का नोटिस अवैध है। उनका इरादा अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करना है। वे उन्हें चुनाव प्रचार से रोकना चाहते हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को ED द्वारा भेजे गए समन पर भाजपा नेता शहज़ाद पूनावाला ने कहा, “पेश होने से अरविंद केजरीवाल कतरा रहे हैं। चोर की मूंछ में तिनका जरूर है… अब विक्टिम कार्ड खेलने से कुछ नहीं होगा… आपकी चहीती कांग्रेस ने खुद कहा है कि शराब घोटाला हुआ है और हमने शिकायत दर्ज़ करवाई है… ये वो ही अरविंद केजरीवाल हैं जो अन्ना हजारे की उंगली पकड़कर कहते थे पहले इस्तीफा फिर जांच…” .

ED द्वारा भेजे गए समन पर दिल्ली के मंत्री सौरव भारद्वाज ने कहा, “ED या केंद्र सरकार ने ये नहीं बताया कि वे किस हैसियत से अरविंद केजरीवाल को बुला रहे हैं। ना वे(अरविंद केजरीवाल) गवाह हैं, ना वे अभियुक्त हैं… समय पर भी सवाल उठते हैं। ठीक लोकसभा चुनाव से पहले जब सभी दल और केंद्र सरकार खुद चुनाव की तैयारी कर रही है। उन चुनावों के कैंपेन से पहले केंद्र सरकार मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही है… जब चार्जशीट दायर हो चुकी है तो उसके बाद अरविंद केजरीवाल को क्यों बुलाया जा रहा है?”

दिल्ली के मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा, ”मनीष सिसौदिया 1 साल से गिरफ़्तार हैं। वे मनीष सिसौदिया के ख़िलाफ़ कोई सबूत नहीं पेश कर पाए हैं… अब अरविंद केजरीवाल को भी गिरफ़्तार करने की तैयारी है। देश के जितने भी विपक्षी पार्टीयों के नेता हैं। उनको किसी न किसी मामले में ED द्वारा गिरफ़्तार करने की कोशिश की जा रही हैं… भाजपा नेताओं के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा है लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है…”

गौरतलब है कि 16 अप्रैल के बाद ईडी ने उन्हें 2 नवंबर को पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन वह नहीं गए। इसके बाद 2 नवंबर को भी बुलाया गया, लेकिन वह नहीं गए। 21 दिसंबर को फिर ईडी ने उन्हें समन भेजा, लेकिन वह एजेंसी के समक्ष पेश नहीं हुए। अब ईडी ने 3 जनवरी को फिर से उन्हें पेश होने को कहा है।