Hindi Newsportal

सभी राज्यों के CM के साथ बैठक के बाद बोले पीएम मोदी, कहा- 3 करोड़ हेल्थकेयर, फ़्रंटलाइन वर्करस के टिकाकारण का खर्च उठाएगी केंद्र सरकार

File Image
0 368

कोरोना वायरस के खिलाफ भारत में जल्द ही दुनिया का सबसे वृहद टीकाकरण अभियान शुरू होने वाला है और इस अभियान की रूपरेखा को अंतिम रूप देने के लिए आज पीएम नरेंद्र मोदी ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की। बात दे इस बैठक में सभी राज्यों ने टीकाकरण अभियान को लेकर तैयारियों का ब्योरा पेश किया। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हो रही यह बैठक इसलिए अहम थी, क्योंकि देश में 16 जनवरी से टीकाकरण अभियान शुरू हो रहा है।

कोरोना वॉरियर्स को पहले टीका- पीएम मोदी।

मुख्यमंत्रियों संग बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि सबसे पहले फ्रंट लाइन वर्कर्स को कोरोना का वैक्सीन लगेगा। इसके बाद सफाई कर्मियों को टीका लगेग। इसके बाद पुलिसकर्मियों, सुरक्षाकर्मियों, सुरक्षा बल के जवानों को कोरोना का वैक्सीनेशन होगा।

दुसरे चरण में इन सब को लगेगा टीका।

दूसरे चरण में 50 वर्ष से ऊपर के लोगों और जो लोग संक्रमण के लिए ज्यादा संवेदनशील हैं, उन्हें टीका लगेगा।

दोनों वैक्सीन है ‘मेड इन इंडिया’, ये है गर्व की बात।

पीएम मोदी ने कहा कि जिन दो वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत दी गई है वे दोनों मेड इन इंडिया हैं। ये हमारे लिए गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि 16 जनवरी से दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण शुरू होगा। इसके अलावा देश में चार और वैक्सीन पर देश में काम चल रहा है।

ये भी पढ़े : कोहली के घर आई नन्ही परी, अनुष्का शर्मा ने बेटी को दिया जन्म

वैक्सीनेशन के लिए बूथ लेवल पर रणनीति अपनाएं।

कोविन एप पर टीकाकरण का रियल टाइम डेटा हो, वैक्सीनेशन के लिए बूथ लेवल पर रणनीति अपनाएं।

दोनों वैक्सीन दुनिया की और वैक्सीन से कॉस्ट इफेक्टिव।

पीएम मोदी ने कहा कि सभी राज्यों से सलाह करके वैक्सीनेशन की प्राथमिकता तय हुई है। दोनों वैक्सीन दुनिया के दुसरे वैक्सीन के मुकाबले सस्ती है। भारत की जरूरत के हिसाब से दोनों वैक्सीन बनाई गई है।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को कोविशील्ड वैक्सीन सप्लाई करने का ऑर्डर।

केंद्र सरकार की तरफ से आधाकारिक तौर पर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को कोविशील्ड वैक्सीन सप्लाई करने की ऑर्डर दे दी गई है। एक करोड़ दस लाख डोज सप्लाई करने का ऑर्डर है। बाद में जरूत के हिसाब से नए ऑर्डर केंद्र सरकार दे सकती है। इस वैक्सीन के एक डोज के लिए केंद्र सरकार सीरम इंस्टीट्यूट को दो सौ रुपये देने पड़ेंगे।

अभी हमे केयरलेस नहीं होना है, ध्यान देना है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमने एक जुट होकर काम किया, और हमने कई अहम फैसले लिए। भारत मे संक्रमण वैसा नहीं है जैसा दुनिया के अन्य देशों में देखा। अभी हमे केयरलेस नहीं होना है, ध्यान देना है। राज्य प्रशासन की भी मैं तारीफ करता हूं।

बता दे 16 जनवरी से भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण शुरू होगा।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram