Hindi Newsportal

राहुल की ‘डंडा’ टिप्पणी पर फिर बोले पीएम मोदी, कहा जिसको मां-बहनों का सुरक्षा कवच, उस पर डंडों का असर नहीं

0 178

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी की “डंडा” टिप्पणी पर एक चुटकी ली और कहा कि कुछ नेता उन्हें लाठी से पीटने की बात करते हैं, लेकिन वह (मोदी) “भारत की सभी माताओं” के आशीर्वाद से सुरक्षित हैं।

“इतनी बड़ी तादाद में यहां की माताएं-बहनें आशीर्वाद देने आई हैं। इससे मेरा विश्वास और बढ़ गया है। कभी-कभी लोग कहते हैं… डंडा मारने की बातें करते हैं… लेकिन जिस मोदी को इतनी बड़ी मात्रा में माताओं-बहनों का सुरक्षा कवच मिला हो, उस पर कितने ही डंडे गिर जाएं, उसे कुछ नहीं हो सकता,” पीएम ने असम के कोकराझार में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा.

ALSO READ: निर्भया केस: पटियाला हाउस कोर्ट ने दोषियों के लिए नया डेथ वारंट जारी करने से किया इनकार

इससे पहले गुरुवार को संसद में पीएम मोदी ने गांधी की टिप्पणी का जिक्र किया और मजाक में कहा कि वह “पिटाई” के लिए अपनी पीठ थपथपाने के लिए सूर्य नमस्कार की संख्या बढ़ाएंगे।

“आज जो उत्साह, जो उमंग मैं आपके चेहरे पर देख रहा हूं, वो यहां के ‘आरोनाई’ और ‘डोखोना’ के रंगारंग माहौल से भी अधिक संतोष देने वाला है,” प्रधानमंत्री मोदी।

उन्होंने कहा कि आज का दिन असम सहित पूरे नॉर्थईस्ट के लिए 21वीं सदी में एक नई शुरुआत, एक नए सवेरे का, नई प्रेरणा का स्वागत करने का है।

उनके भाषण से मुख्य बातें

    • मैं न्यू इंडिया के नए संकल्पों में आप सभी का, शांतिप्रिय असम का, शांति और विकास प्रिय नॉर्थईस्ट का स्वागत करता हूं, अभिनंदन करता हूं।असम में अनेक साथियों ने शांति और अहिंसा का मार्ग स्वीकार करने के साथ ही, लोकतंत्र और भारत के संविधान को स्वीकार किया है।

 

  • मैं बोडो लैंड मूवमेंट का हिस्सा रहे सभी लोगों का राष्ट्र की मुख्यधारा में शामिल होने पर स्वागत करता हूं। पाँच दशक बाद पूरे सौहार्द के साथ बोडो लैंड मूवमेंट से जुड़े हर साथी की अपेक्षाओं और आकांक्षाओं को सम्मान मिला है।

 

  • अकॉर्ड के तहत BTAD में आने वाले क्षेत्र की सीमा तय करने के लिए कमीशन भी बनाया जाएगा। इस क्षेत्र को 1500 करोड़ रुपए का स्पेशल डेवलपमेंट पैकेज मिलेगा, जिसका बहुत बड़ा लाभ कोकराझार, चिरांग, बक्सा और उदालगुड़ी जैसे जिलों को मिलेगा

  • अब सरकार का प्रयास है कि असम अकॉर्ड की धारा-6 को भी जल्द से जल्द लागू किया जाए। मैं असम के लोगों को आश्वस्त करता हूं कि इस मामले से जुड़ी कमेटी की रिपोर्ट आने के बाद केंद्र सरकार और त्वरित गति से कार्रवाई करेगी। हम लटकाने वाले नहीं, हम जिम्मेदारी लेने वाले लोग हैं।

 

  • बोडो टेरिटोरियल काउंसिल, असम सरकार और केंद्र सरकार अब तीनों साथ मिलकर, सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास को नया आयाम देंगे। इससे असम भी सशक्त होगा और एक भारत-श्रेष्ठ भारत की भावना भी और मजबूत होगी।

 

  • पहले नॉर्थईस्ट के राज्यों को रेसीपियंट के तौर पर देखा जाता था। आज उनको विकास के ग्रोथ इंजन के रूप में देखा जा रहा है। पहले नॉर्थईस्ट के राज्यों को दिल्ली से बहुत दूर समझा जाता था,आज दिल्ली आपके दरवाजे पर आकर के आपके सुख-दुख को सुन रही है।

 

  • असम के हर साथी को ये आश्वस्त करने आया हूं कि असम विरोधी, देश विरोधी हर मानसिकता को, इसके समर्थकों को,देश न बर्दाश्त करेगा, न माफ करेगा।यही ताकते हैं जो पूरी ताकत से असम और नॉर्थईस्ट में भी अफवाहें फैला रही हैं कि CAA से यहां बाहर के लोग आ जाएंगे, बाहर से लोग आकर बस जाएंगे।