Hindi Newsportal

बिहार चुनाव: बिहार की 71 सीटों के लिए मतदान कल, जानिए EVM व VVPAT से कैसे दें वोट

File Image
0 154

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए सभी पार्टियां अपना कमर कस चुकी है। कुल 243 विधानसभा सीटों के लिए राज्य में कुल तीन चरणों में वोटिंग होगी। 28 अक्टूबर को पहले चरण का मतदान होगा। 3 नवंबर को दूसरे और 7 नवंबर को तीसरे और आखिरी चरण का मतदान कराया जाएगा। 10 नवंबर को वोटों की गिनती होगी। इसी क्रम में कल 71 सीटों के लिए पहले चरण का मतदान किया जाना है तो आइये आपको बता दे वोट को देने के लिए EVM और VVPAT मशीन का इस्तेमाल कैसे किया जायेगा।

ईवीएम को 1982 में पेश किया गया था और आम चुनाव और विधानसभा चुनाव कराने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता रहा है। वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रायल (VVPAT) में वोट डाले जाने के बाद मशीन मतदाता को एक विजुअल वेरिफिकेशन देती है।

EVM पर कैसे डालें वोट?

पोलिंग बूथ पर नियत स्‍थान पर इलेक्‍ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) रखी होगी, जहां आपको जाना होगा. मशीन में बाएं तरफ सभी उम्मीदवारों का नाम और उनकी पार्टी का चुनाव चिन्ह छपा होता है. हर उम्मीदवार के नाम के आगे लाल लाइट और एक नीला बटन होता है. वहां आप अपनी पसंद के उम्‍मीदवार के चुनाव चिह्न के सामने ईवीएम का बटन दबाकर अपना वोट देंगे. बटन दबाते हीं बीप की आवाज आएगी।

आपके लिए नोटा का भी है बटन।

यह तो हुई पसंद के उम्‍मीदवार को वोट देने की बात। लेकिन अगर आप किसी भी उम्‍मीदवार को पसंद नहीं करते हैं तो आप नोटा (NOTA) का बटन दबा सकते हैं। यह ईवीएम पर अंतिम बटन होता है।

ये भी पढ़े : बिहार चुनाव: वोटिंग से ठीक पहले सोनिया गांधी ने जारी किया वीडियो कहा- बिहार की जनता है महागठबंधन के साथ

VVPAT से क्या होता है?

इसके बाद वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रायल वीवी पैट मशीन (VVPAT) के पारदर्शी विंडो में सात सेकेंड तक उम्‍मीदवार के सीरियल नंबर, नाम और सिंबल के साथ पर्ची दिखाई देगी। उसकी जांच कर लें। इसके साथ ही वोट सही उम्मीदवार को गया या नहीं इसी पर्ची से पता चलेगा। गौरतलब है कि वोट डालते ही मशीन लॉक हो जाती है। अब अगर दोबारा ईवीएम पर कोई बटन दबाया जाता है, तो मशीन इसे रिकॉर्ड नहीं करती है।

वोट डालने से पहले इन बातों का रखे ध्यान।

  • पोलिंग बूथ में एक प्रजाइडिंग ऑफिसर और 4-5 पोलिंग ऑफिसर और कुछ एजेंट्स होते हैं।
  • पोलिंग ऑफिसर लाइन से बैठे होते हैं। बूथ में एंट्री करते ही पोलिंग ऑफिसर को अपना वोटर आईडी कार्ड दिखाएं। ऑफिसर वोटिंग लिस्ट से मतदाता के नाम का मिलान करते हैं।
  • इसके बाद दूसरे पोलिंग ऑफिसर को अपना पहचान पत्र दिखाए। वो वोटर आईडी से इलेक्ट्रोल नंबर देखकर रजिस्टर में दर्ज करेंगे। तीसरे पोलिंग ऑफिसर उंगली पर स्याही लगाकर ईवीएम पर वोट डालने की अनुमति दे देंगे।
  • मतदान डालने के पहले अपना एक पहचान पत्र ले जाना ना भूले।
  • आपको एक कतार में खड़े रहना होगा और सोशल डिस्टन्सिंग का पूरा ध्यान रखना होगा।
  • वहां पर तैनात स्वस्थ्य अधिकारी आपका टेम्परेचर मापेंगे और आपक सभी को मास्क पहन के जाना आवश्यक होगा।
  • हर वोटर को ग्लव्स दिए जायेंगे।
  • कोरोना के चलते पोलिंग अफसर बैलट पेपर इशू करने का बजाय EVM पर बैलट बटन दबाएगा जिससे आप अपना वोट डालने में सक्षम होंगे।
  • कैंडिडेट यानी मतदाता की लिस्ट मशीन में ही होगी जिसमे आगे नीली कलर कि एक बटन होगी।
  • मतदाता को अपने प्रत्याशी के बगल में नीली बटन को दबाना होगा जिसे वो वोट देना चाहते है।
  • वोट देने के बाद अपने ग्लव्स को डस्ट बिन में डाल दे और जगह से जाने के बाद उस जगह को ‘Sanitize’ कर दे।

बिहार चुनाव के लिए कुछ जरूरी गाइडलाइन्स

  • कोरोना को ध्यान में रखते हुए पोलिंग स्टेशन पर 1500 से घटाकर सिर्फ 1000 वोटर्स ही जा पाएंगे.
  • इस दौरान वोटिंग के लिए 7 लाख हैंड सैनेटाइजर, 46 लाख मास्क, 6 लाख पीपीई किट, 6.7 लाख फेस शिल्ड्स और 23 लाख सिंगल इस्तेमाल किए जाने वाले ग्लव्स की सुविधा दी जाएगी.
  • पोस्टर बैलेट को बढ़ाकर इसकी उम्र 80 साल तक कर दी गई है. वहीं कोरोना पॉजिटिव और क्वारंटनी रह रहे लोगों के लिए भी ऐसा किया गया है.
  • पोलिंग टाइमिंग्स को 1 घंटे के लिए बढ़ा दिया गया है. यानी की अब आप शाम के 6 बजे तक वोट दे सकते हैं.

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram