Hindi Newsportal

नॉर्थ पोल के ऊपर से उड़ान भर एयर इंडिया की महिला पायलटों ने रचा इतिहास, 16000 KM का ‘सबसे लंबे रूट’ तय कर सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु पहुंची फ्लाइट

Image Credits - Air India Twitter
0 476

एयर इंडिया की 4 महिला पायलटों की एक टीम ने दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग नॉर्थ पोल पर उड़ान भर एक नया इतिहास रच दिया है उनके इस कारनामे से अब उनका नाम इतिहास में याद किया जाएगा। रविवार को अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से उड़ान भरने के बाद महिला पायलटों की यह टीम नॉर्थ पोल से होते हुए बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंची। इस सफर के दौरान करीब 16,000 किलोमीटर की दूरी तय की गई।

प्लेन भारत पहुंचने पर एयर इंडिया ने ट्वीट कर जताई ख़ुशी।

प्लेन भारत पहुंचने पर एयर इंडिया ने ट्वीट कर खुशी जताई और सभी महिला पायलट्स का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। लिखा, “ऐतिहासिक सफर पूरा करने के बाद कैप्टन जोया अग्रवाल, कैप्टन पापागिरी थानमेई, कैप्टन आकांक्षा और कैप्टन शिवानी आपका अपने देश में स्वागत है। एयर इंडिया को गर्व महसूस कराने के लिए आपके बधाई। हम इसके अलावा AI176 के सभी यात्रियों को भी बधाइयां देते हैं, जो इस ऐतिहासिक क्षण का हिस्सा बने।”

दिल्ली की जोया अग्रवाल ने किया था दल का नेतृत्व, बोइंग 777 उड़ाने वाली सबसे युवा पायलट हैं।

एयर इंडिया के दिल्ली बेस पर तैनात कैप्टन जोया अग्रवाल ने सैन फ्रांसिस्को से बंगलूरू आने वाले इस दल का नेतृत्व किया। इस उड़ान में चालक दल के साथ पूरे क्रू में भी सिर्फ महिलाएं हैं।

ये भी पढ़े : महाराष्ट्र के बाद दिल्ली में भी बर्ड फ्लू का कोहराम, अब तक 9 राज्यों में हुई पुष्टि; उद्धव ठाकरे ने बुलाई आपात बैठक

बेंगलुरू एयरपोर्ट पर क्या बोली कैप्टन जोया अग्रवाल।

बेंगलुरू एयरपोर्ट पर कैप्टन जोया अग्रवाल ने इस बारे में बताया, “हमने न केवल नॉर्थ पोल के ऊपर से विमान उड़ाकर बल्कि सफर के दौरान सभी महिला पायलट्स के साथ इतिहास रच दिया। हम बेहद खुश हैं और इस प्लान का हिस्सा बनकर गौरवान्वित हैं। इस रूट ने करीब 10 टन ईंधन की बचत कराई है।”

हरदीप पुरी ने किया ट्वीट।

नागर विमानन मंत्री हरदीप पुरी ने ट्वीट किया, ‘यह खुशी और जश्न का समय है, भारतीय नागर विमानन की महिला पेशेवरों ने इतिहास रचा है। कैप्टन जोया अग्रवाल, कैप्टन पापागरी तन्मई, कैप्टन आकांक्षा सोनावरे और कैप्टन शिवानी को सैन फ्रांसिस्को से उत्तरी ध्रुव से होते हुए बेंगलुरु उतरने पर बहुत-बहुत बधाई।’

क्यों इतिहास के पन्नों में लिखा जायेगा ये सफर।

  • कॉकपिट में केवल महिला चालक दल की सदस्य शामिल थीं।
  • फ्लाइट उत्तरी ध्रुव के ऊपर से होते हुए और अटलांटिक मार्ग से कर्नाटक की राजधानी पहुंचीं।
  • AI के मुताबिक, यह दुनिया की सबसे लंबी वाणिज्यिक उड़ान (भारत में उसके या किसी अन्य एयरलाइन द्वारा संचालित) थी।

Click here for Latest News updates and viral videos on our AI-powered smart news

For viral videos and Latest trends subscribe to NewsMobile YouTube Channel and Follow us on Instagram