Hindi Newsportal

तिलमिलाए पाकिस्तान ने लद्दाख के पास स्कार्दू में तैनात किए फाइटर प्लेन, भारतीय एजेंसियां रख रही हैं नजर

0 156

धारा 370 के उन्मूलन को लेकर पाकिस्तान के साथ चल रहे तनाव के बीच, पाकिस्तानी सुरक्षाबलों ने लद्दाख के करीब स्थित अपने आगे के ठिकानों पर सैन्य उपकरणों को ले जाना शुरू कर दिया है. भारत के साथ राजनयिक संबंधों को कम करने और कारोबार पर प्रतिबंध लगाने के बाद वह सीमा पर अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ाने लगा है.

सरकारी सूत्रों ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया, “पाकिस्तान वायु सेना के तीन सी -130 परिवहन विमानों का इस्तेमाल शनिवार को केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख के सामने उनके स्कर्दू हवाई अड्डे के लिए सैन्य उपकरणों को लाने के लिए किया गया. संबंधित भारतीय एजेंसियां ​​सीमावर्ती इलाकों में पाकिस्तानियों की आवाजाही पर कड़ी नजर रख रही हैं.”

स्कार्दू पाकिस्तान के कब्जे वाले गिलगिट-बाल्टिस्तान इलाके में स्थित है.

सूत्रों ने कहा कि आगे के ऑपरेटिंग बेस पर ले जाने वाले उपकरण लड़ाकू विमान संचालन के लिए सहायक उपकरण हो सकते हैं. इसके साथ ही सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान आने वाले दिनों में स्कार्दू एयरबेस पर अपने जेएफ-17 लड़ाकू विमानों की तैनाती कर सकता है.

वायु सेना और थल सेना के साथ भारतीय खुफिया एजेंसियां ​​पाकिस्तानी वायु सेना की आवाजाही पर कड़ी नजर रख रही हैं.

पाकिस्तानी लंबे समय पहले अमेरिकियों द्वारा आपूर्ति सी -130 परिवहन विमान के पुराने संस्करण का उपयोग करते हैं. बता दें की अमेरिका ने बहुत समय पहलते परिवहन विमान सी-130 को पाकिस्तान को दिया था। यह विमान काफी पुराना हो चुका है.

ALSO READ: दंगल गर्ल बबीता फोगाट आज भाजपा में हो सकती हैं शामिल, किया था खट्टर के बयान का…

सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान वायु सेना एक अभ्यास करने की योजना बना रही थी और विमानों को आगे के ठिकानों पर स्थानांतरित करने का कदम भी इसका एक हिस्सा हो सकता है.

स्कर्दू पाकिस्तान वायु सेना का एक आगे का संचालन आधार है जो भारत के साथ सीमा पर अपने सेना के अभियानों का समर्थन करता था।

पाकिस्तान भारत के अनुच्छेद 370 को खत्म करने और जम्मू और कश्मीर को जम्मू और कश्मीर और लद्दाख के दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के भारत के फैसले को एक बड़ा मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहा है, जिसे वह अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर लगातार उठा रहा है.

पाकिस्तान ने जहां संयुक्त राष्ट्र से इस मुद्दे पर दखल देने की गुहार लगाई थी, वहीं उसने मुस्लिम देशों के साथ साथ अमेरिका और चीन से भी इसे लेकर मदद मांगी है.