Hindi Newsportal

कश्मीर की 17 साल पुरानी पिक्चर अभी का बता कर हो रही है शेयर – जानें सच

0 218

सोशल मीडिया पर एक पिक्चर शेयर की जा रही है जिसमे एक महिला रोड किनारे रोते हुए देखी जा सकती है और जब वो महिला रो रही है तो उसके सामने भारतीय जवानों को भी खड़ा देखा जा सकता है। फोटो के कैप्शन में दावा किया जा रहा है कि महिला को कश्मीर में अपने एग्जामिनेशन सेंटर जानें से रोका जा रहा है।

फोटो के कैप्शन में लिखा है – कश्मीर में महिला को अपने एग्जामिनेशन सेंटर जानें से रोका जा रहा है। कश्मीर को मुक्त करो।

One of my #Beloved sister cries 😭 on the road, as she was stopped from proceeding towards her examination centre… #Free_Kashmir… #Stop_Barbarism… #Born_To_Free…

Jamid Ul Islam यांनी वर पोस्ट केले रविवार, १९ जुलै, २०२०

फैक्ट चेक :

न्यूज़ मोबाइल ने जब इस खबर का फैक्ट चेक किया तो पता चला कि ये तस्वीर गलत है और गलत दावों के साथ साझा की जा रही है।

ये भी पढ़े : गलत दावों के साथ शेयर हो रही है असम बाढ़ की ये तस्वीर, जानें सच

दरअसल जब हमने तस्वीर को रिवर्स इमेज के माध्यम से सर्च किया तो हमे गेट्टी इमेजेज कि वेबसाइट पर बिलकुल ऐसी ही एक तस्वीर मिली।

कैप्शन के मुताबिक ये पिक्चर 19 नवंबर 2003 को खींची गयी थी।

कैप्शन में लिखा था – श्रीनगर , भारत – 19 नवंबर 2003 की तस्वीर में एक कश्मीरी लड़की रो रही है क्युकीं उसे भारतीय सैनिकों ने एग्जाम सेंटर जानें से रोक दिया। लड़की का घर एक ‘सील्ड’ इलाके में है जहाँ भारतीय सैनिकों और आतंकवादियों के बीच हुई मुठभेड़ में 1 पुलिसकर्मी और 6 अन्य लोग घायल हो गए है। ये लड़ाई कश्मीर में आर्मी हेडक्वाटर के पास 18 नवंबर को शुरू हुई थी और 19 नवंबर कि शाम को फिरसे मुठभेड़ शुरू हो गयी । विद्रोहियों ने भारतीय सैनिकों पर ग्रेनेड से हमला भी किया जिसने 2 आर्मी के जवान और एक पुलिस वाले को घायल कर दिया।

इसीलिए हम ये दावा कर सकते है कि 17 साल पुरानी तस्वीर को हाल – फिलहाल की तस्वीर बता कर गलत दावों के साथ साझा किया जा रहा है।

यदि आप किसी भी स्टोरी को फैक्ट चेक करना चाहते हैं, तो इसे +91 88268 00707 पर व्हाट्सएप करें।